You are here: Home >> Hindi News & Features >> Lifestyle & Leisure

बहुत हो गया, अब खत्म हो मौताणा

DBUDA5166 | 1/10/2011 | Author : bhaskar correspondentnt


उदयपुर। शुरुआती दौर में अपराधी को भविष्य में अपराध करने से रोकने और गलती का अहसास कराने के लिए चली मौताणा प्रथा आज हिंसक हो चली है। मौत या शारीरिक क्षति के लिए अब हर्जाना नाकाफी हो चला है। अब हिंसा के बदले हिंसा की बढ़ती प्रतिक्रिया ने खुद आदिवासियों को भी हिलाकर रख दिया है। अब मौताणा ने जान के बदले जान लेने, घरों को तहस नहस कर देने का हिंसक रूप लेकर ऐसे मर्ज की शक्ल ले ली है, जो संबंधित पक्ष के पीछे रहने वालों को भी जीते जी मार देता है।

कई बार तो प्राकृतिक मौत पर भी मौताणा वसूला जाता है। यह बुराई जंगलों से निकल कर संभाग मुख्यालय तक पहुंचने लग गई है।कुछ इस तरह का माहौल था रविवार को यहां राजस्थान आदिवासी अधिकारी मंच द्वारा आयोजित संवाद में। मौताणा जैसी कुप्रथा से पीड़ित और भुगतभोगी लोगों, संभाग भर के आदिवासी मुखियाओं, पटेलों, मोतबीरों और बुद्धिजीवियों ने एक स्वर से मौताणा की बुराई को त्यागने का आह्वान किया।

पूरे परिवार को गांव छोड़ना पड़ा था
कोटड़ा के वियोल गांव से आई कदनी बाई ने अपनी आपबीती बताते हुए कहा कि इस कुरीति के कारण उसकेपरिवार पर हत्या का झूठा लांछन लगा और खानदान के 16 घरों के सदस्यों को गांव से विस्थापित होना पड़ा। इस कारण उसके सभी सदस्य विस्थापन की पीड़ा के साथ साथ गरीबी, बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं। पिछले दो साल से उनके बच्चों की पढ़ाई चौपट हो रही है। कोटड़ा के आदिवासी मुखी पाबु पटेल और डूंगरपुर के वीरजी, सिरोही के विसाराम, बांसवाड़ा के थावरा भाई और खेरवाड़ा की साधना मीणा आदि ने अप्राकृतिक मौतों पर भी मौताणा वसूलने के इस चलन को समाज के लिए घातक बताया।

‘समाज ही कर सकता है इस बुराई का खात्मा’...

More on Entertainment:

जीते जी देश सेवा, मरणोपरांत मेडिकल सेवा
DBKOT5177 | 1/2/2012 12:00:00 AM | Author : Bhaskar Correspondent

कोटा. ‘छोटे बाबू’ के नाम से ख्यात और अंग्रेजों के पसीने छुड़वाने वाले स्वतंत्रता सेनानी दौलतराम जैन जब तक जीवित रहे उन्होंने देश सेवा का कोई मौका नहीं छोड़ा। वे विख्यात गांधीवादी सिद्धराज ढड्ढ़ा के साथी थे। यही नहीं मृत्यु के बाद भी वे किसी न किसी

इट्स पार्टी टाइम
DBFAR3276 | 1/1/2012 12:00:00 AM | Author : Bhaskar Correspondent

फरीदाबाद. औद्योगिक नगर में शनिवार की देर रात तक लोग नए साल के जश्न में डूबे रहे। शहर के होटल, रेस्टोरेंट, मॉल्स- सभी जगहों पर बीते हुए साल को अलविदा कहने और नए साल के वेलकम को लेकर खास तैयारियां की गई थीं। इसको लेकर इन जगहों की खूब सजावट की गई थी। शह

ऐसी है ग्वालियर के लोगों की लाइफ स्टाइल
DBGWA7230 | 12/31/2011 12:00:00 AM | Author : bhaskar correspondent

ग्वालियर.पर्सनल लाइफ के बारे में खुलकर बात करने वाले शहरवासियों ने ग्वालियर के विकास, मूलभूत सुविधाओं, सुरक्षा, मनोरंजन के साधनों और पर्यावरण पर भी मुखर होकर अपनी राय व्यक्त की। दैनिक भास्कर द्वारा करवाए गए सर्वे के दूसरे चरण में शहरवासियों से उनकी क

नन्हें हाथों ने रोका जोंक नदी का पानी
DBRAI12892 | 12/26/2011 12:00:00 AM | Author : Bhaskar Correspondent

पिथौरा से लौटकर सुधीर उपाध्याय.. पिथौरा के पास से गुजरने वाली जोंक नदी इस बार गर्मियों में सूखेगी नहीं। यह कमाल किया है ग्राम सांकरा के लोगों और सौ से ज्यादा स्कूली बच्चों ने। छात्रों ने शिक्षकों के साथ एक हफ्ते पहले पढ़ाई के बाद नदी की धारा को बांध